Thursday, December 9, 2021

जब आप सो रहे थे लखीमपुर में ये हो रहा था!

रविवार यानी 2 अक्टूबर की रात लखमीपुर खीरी के लिए हलचल भरी रही। दिन में हुई हत्याकांड और भारी हिंसा के बाद उत्तर प्रदेश और दूसरे राज्यों के कई नेताओं ने लखीमपुर खीरी जाने की बात कही। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के लखीमपुर खीरी जाने की बात भी सामने आई। अखिलेश यादव सोमवार यानी आज लखीमपुर जाने की तैयारी में हैं। ज्यादातर नेता आज ही लखीमपुर खीरी जाने वाले हैं।

इन सब के बीच कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी कल रात ही लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो गईं। प्रियंका गांधी तिकुनियां गांव जाना चाहती थीं जहां किसानों समेत कुल आठ लोगों की हत्या की गई है। रात साढ़े दस बजे प्रियंका गांधी और कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा लखनऊ पहुंचे। लखनऊ से दोनों नेता लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो गए। लखनऊ में पुलिस ने प्रियंका गांधी का काफिला रोक दिया। जिसके बाद प्रियंका गांधी पैदल ही चल पड़ीं। कुछ दूर जाने के बाद प्रियंका गांधी दूसरी गाड़ी में बैठकर लखीमपुर की ओर बढ़ीं।

माना जा रहा था कि प्रियंका गांधी का तिकुनियां पहुंचना आसान नहीं होगा। पुलिस रास्ते भर में कई जगह पहरा डाले बैठी थी। लखनऊ में भी प्रियंका गांधी को पुलिस ने रोकने की कोशिश की। हालांकि पुलिस प्रियंका गांधी को रोक नहीं पाई। रास्ते भर पुलिस को चकमा देते हुए प्रियंका गांधी और दीपेंद्र हुड्डा लखीमपुर के नजदीक हरगांव पहुंचे।

हरगांव में पुलिस की बड़ी संख्या में तैनाती की गई थी। ताकि कांग्रेस नेताओं को लखीमपुर खीरी न पहुंचने दिया जाए। हरगांव में पुलिस और प्रियंका गांधी और दीपेंद्र हुड्डा में जमकर झिकझिक हुई। प्रियंका गांधी और दीपेंद्र हुड्डा ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने जनरदस्ती उन्हें धक्का दिया और अपनी गाड़ी में बैठाने की कोशिश की।

काफी देर तक हुए हंगामे के बाद पुलिस ने प्रियंका गांधी और दीपेंद्र हुड्डा को हरगांव से हिरासत में ले लिया। दोनों नेताओं को सीतापुर पुलिस लाइन ले जाया गया है।

गौरतलब है कि रविवार को लखीमपुर खीरी के तिकुनियां गांव में आठ लोगों की हत्या कर दी गई। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री और लखीमपुर खीरी से सांसद अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा पर किसानों की हत्या का आरोप लगा है। आरोरियांकाप है कि आशीष मिश्रा ने विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को गाड़ी से कुचल दिया। खबरों के मुताबिक आशीष मिश्रा की गाड़ी से चार किसानों की मौत हो गई।

किसानों की मौत के बाद लखीमपुर में जगह – जगह हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुईं। विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों पर आरोप है कि उनके हमले में तीन भाजपा कार्यकर्ताओं और एक ड्राइवर की मौत हो गई। इस मामले में आशीष मिश्रा समेत कुल चौदह लोगों पर हत्या और बलवा की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

 

क्यों हुआ ये हंगामा:

लखीमपुर खीरी में भाजपा सांसद के बेटे ने किसानों को रौंदा, 6 की मौत, क्या है पूरा मामला?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles