Tuesday, October 26, 2021

छात्रवृत्ति पर सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय की जरूरी पहल, सरकार को लिखा पत्र

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय ने उत्तर प्रदेश सरकार को छात्रवृत्ति में इजाफा करने के लिए पत्र लिखा है। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. हरेराम त्रिपाठी ने विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति देने के लिए तीन करोड़ साठ लाख रुपए के अनुदान की स्वीकृति मांगी है। सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की ओर से भेजे गए पत्र पर उत्तर प्रदेश सरकार के विशेष सचिव अब्दुल समद ने बीते 12 अक्टूबर को विश्वविद्यालय के कुलसचिव से चार बिंदुओं पर जवाब मांगे थे। विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. ओमप्रकाश ने बुधवार यानी आज सरकार के सवालों का जवाब भेजा है।

कुलसचिव ने शासन को बताया है कि विश्वविद्यालय में साल 1998 से ही बजट की व्यवस्था के अंतर्गत ही छात्रवृत्ति प्रदान की जाती रही है। लेकिन 2014-15 तक ही इस व्यस्था के जरिए विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी गई। आर्थिक संकट की वजह से इस सत्र के बाद विश्वविद्यालय के बजट से छात्रवृत्ति देने की सुविधा बंद हो गई।

शासन को दिए गए जवाब में कुलसचिव ने लिखा है कि उच्च शिक्षा विभाग द्वारा छात्रवृत्ति हेतु अनुदान प्राप्त होने पर विश्वविद्यालय के मेधावी और आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी जाएगी। कुलसचिव ने बताया कि वर्ष 2020-21 में आय प्रमाण पत्र के आधार पर समाज कल्याण विभाग, पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग और अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के 169 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दी गई थी।

सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय के सत्र 2020-21 में कुल 2027 विद्यार्थियों पंजीकृत हैं। इनमें से लगभग 1100 विद्यार्थियों को लिखित परीक्षा के द्वारा चयन करके छात्रवृत्ति देने की योजना बनाई गई है। ये सभी विद्यार्थी आर्थिक रूप से कमजोर हैं। कुलसचिव के मुताबिक इस योजना के अंतर्गत छात्रवृत्ति देने के लिए तीन करोड़ साठ लाख रुपए की जरूरत है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles