Thursday, December 9, 2021

विद्यापीठ बुलेटिन: एक साथ तीन बड़े बदलाव, छात्रावास से गांधी अध्ययन पीठ तक

हात्मा गांधी काशी विद्यापीठ विश्वविद्यालय के लिए मंगलवार यानी आज का दिन काफी रोमांच भरा रहा। विश्वविद्यालय में एक साथ तीन बड़े बदलाव देखने को मिले हैं। परिसर में आज भी एक धरना-प्रदर्शन हुआ। कुलपति कार्यालय के सामने जमकर नारेबाजी भी हुई। इस बुलेटिन में एक-एक कर हर खबर की परत दर परत बताएंगे।

बदले गए मुख्य गृहपति:

दर्शन विभाग के प्रो. राजेश कुमार को विश्वविद्यालय के छात्रावासों का मुख्य गृहपति बनाया गया है। कुलपति प्रो. आनंद कुमार त्यागी के आदेश से प्रो. राजेश कुमार अगले दो साल या अगले आदेश तक के लिए मुख्य गृहपति नियुक्त किए गए हैं। अब तक यह जिम्मेदारी हिंदी विभाग के प्रो. अनुराग कुमार संभाल रहे थे।

गौरतलब है कि प्रो. अनुराग कुमार को बीते दिनों ही मदन मोहन मालवीय पत्रकारिता संस्थान का निदेशक बनाया गया था। छात्रावास के मुख्य गृहपति के पद से उन्हें हटाए जाने की चर्चा पहले से ही थी विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन के सूत्रों का कहना है कि प्रो. अनुराग कुमार मुख्य गृहपति का काम संभाल नहीं पा रहे थे। साथ ही वे कई बड़े पद सौंप दिए गए थे। यह भी अंदरखाने मुद्दा बना हुआ था।

गांधी अध्ययन पीठ को मिले नए निदेशक:

डॉ. बंशीधर पांडेय को विश्वविद्यालय के गांधी अध्ययन पीठ के निदेशक पद से हटा दिया गया है। समाज कार्य संकाय के अध्यक्ष यानी डीन प्रो. संजय को गांधी अध्ययन पीठ का निदेशक बनाया गया है। प्रो. संजय की नियुक्ति अगले तीन वर्षों या अगले आदेश तक इस पद पर बने रहेंगे।

पर्यटन अध्ययन केंद्र में क्या हुआ?

अंग्रेजी और अन्य विदेशी भाषा विभाग की डॉ. निशा सिंह को पर्यटन अध्ययन केंद्र का कार्यकारी निदेशक बनाया गया है। इस बाबत कुलपति की ओर से आदेश जारी किया गया है। बता दें कि फिलहाल डॉ. ओमप्रकाश सिंह पर्यटन अध्ययन केंद्र के निदेशक हैं। आगामी 29 नवंबर को डॉ. ओमप्रकाश सिंह का कार्यकाल समाप्त होने वाला है। जिसे देखते हुए कुलपति ने डॉ. निशा सिंह को कार्यकारी निदेशक नियुक्त किया है।

अब बात धरना-प्रदर्शन की:

विश्वविद्यालय में आज एक बार फिर नारेबाजी हुई। इस बार भी निशाने पर विश्वविद्यालय प्रशासन ही रहा। धरना विधि संकाय के विद्यार्थी कर रहे थे। दरअसल विश्वविद्यालय की ओर से बीए एलएलबी के द्वितीय और चतुर्थ सेमेस्टर के परीक्षा का टाइम टेबल जारी किया गया है। साथ ही एलएलएम द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षा की भी तारीख घोषित कर दी गई है।

ये परीक्षाएं आगामी 29 नवंबर से शुरू होंगी। आज 23 नवंबर है। यानी पांच दिन पहले परीक्षा की तारीख जारी कर दी गई है। विधि संकाय के विद्यार्थी इसी बात का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि महज पांच दिन पहले परीक्षा का टाइम टेबल जारी करना उचित नहीं है। विद्यार्थियों ने और भी बहुत कुछ कहा है जो आप नीचे दिए गए वीडियो लिंक को चालू कर देख और सुन सकते हैं। साथ ही धरना-प्रदर्शन का पूरा माहौल भी समझ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles