Thursday, December 9, 2021

भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूडी के गिरफ्तारी की मांग, बिहार में मनाई जा रही है प्रतिवाद दिवस!

बिहार में पिछले कुछ दिनों से राजनीतिक गतिविधियों की बाढ़ सी आई हुई है। वजह बनी है बिहार में फैली कोरोना महामारी। पूरे देश में कोविड-19 ने आफत मचाई हुई है। इससे बिहार भी अछूता नहीं है। नीतीश सरकार के कागजों में सब चंगा सी है। अंधे आंकड़ों में बिहार की स्थिति उतनी खराब नहीं दिखती है जितनी कि वास्तव में है। कोरोना जांच की संख्या को घटाकर सरकार ने संक्रमण को कम करने का तरीका ढूंढ लिया है। मीडिया रपटें बता रही हैं कि बिहार के गांवों में ये महामारी भयंकर रूप धारण कर चुकी है।

इन सब के बीच शनिवार को भाकपा माले के आह्वाहन पर पूरे बिहार में प्रतिवाद दिवस मनाया जा रहा है। प्रतिवाद को सरल भाषा में विरोध समझ सकते हैं। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माले) ने प्रतिवाद दिवस मनाने का ऐलान किया था। इस राज्यव्यापी प्रतिवाद दिवस में भाकपा माले ने कई मांगें की हैं। भाजपा सांसद और राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी को गिरफ्तार किया जाए। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय को बर्खास्त किया जाए। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह इस्तीफा दें। जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव को रिहा किया जाए।

अपनी मांग वाले पोस्टर लिए खड़े लोग

राजीव प्रताप रूडी और पप्पू यादव का मुद्दा:

भाकपा माले के इन मांगों में राजीव प्रताप रूडी की गिरफ्तारी और पप्पू यादव की रिहाई एक दूसरे से जुड़ी हुई है। आधिकारिक तौर पर ना सही लेकिन पर्दे के पीछे इनका संबंध जरूर है। भाकपा माले ने कहा है कि “एम्बुलेंस चोर राजीव प्रताप रूडी को गिरफ्तार किया जाए।” गौरतलब है कि राजीव प्रताप रूडी के अमनौर कार्यालय पर लगभग 30 एम्बुलेंस ढक कर रखे हुए पाए गए। ये सभी एम्बुलेंस सांसद निधि से खरीदी गई थी। पप्पू यादव ने ही इस बात का खुलासा किया था। पप्पू यादव रूडी के अमनौर कार्यालय पहुंच गए थे। वहां से उन्होंने दिखाया कि लगभग 30 एम्बुलेंस रूडी के कार्यालय पर सड़ रही हैं। वो भी तब जब बिहार में एम्बुलेंस की भयानक कमी है।

इसी के बाद पप्पू यादव को गिरफ्तार किया गया। पटना पुलिस ने पहले तो उन्हें तालाबंदी के नियमों का उल्लंघन करने के लिए गिरफ्तार किया। लेकिन शाम तक उन्हें किसी दूसरे मामले में जेल भेज दिया गया। पप्पू यादव को एक 32 साल पुराने केस में जेल भेजा गया। इस कार्रवाई के तरीका और टाइमिंग ने इस पर सवाल पैदा किया। राजीव प्रताप रूडी के एम्बुलेंस के खुलासे के बाद पप्पू यादव की गिरफ्तारी सारी कहानी बयां कर रही है।

मंगल पाण्डेय पर सवाल:

बिहार में भाजपा और जदयू गठबंधन की सरकार है।नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हैं। भाजपा नेता मंगल पाण्डेय स्वास्थ्य मंत्री हैं। बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था आम दिनों में भी चरमराई ही रहती है। अब कोरोना महामारी ने इसकी और पोल खोल दी है। स्वास्थ्य मंत्री के तौर पर मंगल पाण्डेय हमेशा सवालों के घेरे में रहते हैं। ज्यादा दिन नहीं बीते जब ट्विटर पर मंगल पाण्डेय के इस्तीफे के लिए हैशटैग ट्रेंड हुआ था। #ResignAMangalPandey.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles