Tuesday, October 26, 2021

किसानों के समर्थन में बोलने पर भाजपा सांसद वरुण गांधी और मेनका गांधी को क्या कीमत चुकानी पड़ी?

खीमपुर खीरी में हुए किसान हत्याकांड को लेकर वरुण गांधी मुखर होकर बोल रहे थे। वरुण गांधी ने किसानों के समर्थन में कई ट्वीट्स भी किए थे। किसानों के समर्थन में बोलना उनके लिए महंगा पड़ गया है। गुरूवार को भारतीय जनता पार्टी ने वरुण को राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर कर दिया है। भाजपा ने मेनका गांधी को भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। जो कि रिश्ते में वरुण गांधी की मां लगती हैं।

एनडीटीवी ने अपनी खबर में बताया है कि भाजपा सूत्रों का कहना है कि यह एक ‘रूटीन एक्ससाइज’ है। लेकिन कयासें लगाई जा रही हैं कि लखीमपुर खीरी पर लगातार वरुण गांधी के ट्वीट्स भाजपा आलाकमान को नागवार गुजर रहे थे। वरुण गांधी ने लखीमपुर खीरी की घटना पर सबसे पहला ट्वीट 4 अक्टूबर को किया था। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई करने का निवेदन किया था।

इसके बाद वरुण गांधी ने एक बार फिर 5 अक्टूबर को एक वीडियो ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि “लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ियों से जानबूझकर कुचलने का यह वीडियो किसी की भी आत्मा को झकझोर देगा। पुलिस इस वीडियो का संज्ञान लेकर इन गाड़ियों के मालिकों, इनमें बैठे लोगों, और इस प्रकरण में संलिप्त अन्य व्यक्तियों को चिन्हित कर तत्काल गिरफ्तार करे।”

7 अक्टूबर यानी आज एक और ट्वीट करते हुए वरुण गांधी ने लिखा है कि “यह वीडियो बिल्कुल साफ है। हत्या के जरिए प्रदर्शनकारियों को चुप नहीं कराया जा सकता। किसानों के गिराए गए निर्दोष खून के लिए जवाबदेही होनी चाहिए और अहंकार और क्रूरता का संदेश हर किसान के दिमाग में आने से पहले न्याय दिया जाना चाहिए।”

गौरतलब है कि बीते 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में बड़ी संख्या में किसान उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के दौरे का विरोध कर रहे थे। विरोध प्रदर्शन के दौरान ही किसानों के एक जत्थे को गाड़ियों से रौंद दिया गया। जिसमें कुल आठ लोगों की मौत हो गई। इनमें चार किसान शामिल थे। लखीमपुर की इस घटना में रमन कश्यप नाम के एक पत्रकार की भी मौत हो गई।

लखीमपुर खीरी के भाजपा सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशिष मिश्रा पर इस हत्याकांड का आरोप लगा है। कहा जा रहा है कि मंत्री का बेटा आशिष उसी गाड़ी में सवार था। इस मामले को और विस्तार से समझने के लिए यह खबर पढिए:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles